16 साल की उम्र में सेक्स सिंबल बन जाना लीसा रे के लिए पड़ा भारी


फिल्म कसूर से चर्चा में आई अभिनेत्री लीसा रे सिर्फ एक बॉलीवुड एक्ट्रेस ही नहीं एक कैंसर सर्वाइवर भी रही हैं. उनकी पहली ही फिल्म से उनकी एक बोल्ड इमेज बन गई थी. भारतीय मूल की इस कनाडाई अभिनेत्री को नुसरत फतेह अली खान के गीत आफरीन आफरीन से चर्चा मिली थी. इसके बाद लीसा को कसूर फिल्म में लीड रोल मिला लेकिन पहली ही फिल्म से उनकी एक इमेज बन गई.
या तो उन्हें विदेशी लड़की का किरदार मिलता या फिर उनसे फिल्म में सेक्स सिंबल बनने के लिए कहा जाता. अब इस अभिनेत्री ने अपनी आत्मकथा में इस बात का खुलासा किया है.
लीसा के अनुसार, मुझे किसी भी तरह के लेबल में बंधना पसंद नहीं था लेकिन 16 साल की उम्र में ही मैं एक सेक्स सिंबल बन चुकी थी. मैं इसके लिए तैयार नहीं थी.
अपनी किताब के विमोचन के दौरान रिपोर्टरों से बात करते हुए लीसा ने कहा,आप रातों रात एक देश के लोगों की फैंटेसी बन जाते हैं और उपर से आपको अपनी उम्र से बड़ा दिखना पड़ता है. मुझे इससे नफरत थी.
अपनी आत्मकथा लिखने वाली लीसा ने लिखा की इस किताब में सिर्फ मेरी कैंसर से जंग और उससे उबरने के बारे में नहीं बल्कि लोकप्रिय होने से पहले की मेरी जि़ंदगी के बारे में कई सच लिखे हैं.
47 साल की लीसा रे को साल 2009 में कैंसर की बीमारी का पता चला था. श्वेत रक्तकणों  के कैंसर से जूझती लीसा के लिए वो बेहद मुश्किल समय था क्योंकि कुछ ही समय पहले उनकी मां के साथ हुई एक दुर्घटना में उनकी मां व्हीलचेयर पर आ गई थीं.
लीसा का कहना है कि उनकी किताब को लिखने का कारण उनकी कैंसर की जंग ही रही लेकिन इस बीमारी के बारे में अकेले नहीं लिखा जा सकता. इस किताब में वो सब है जो उनके साथ बीत.

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *